रामफल Ki Sayari


एक बै रामफल शहर मैं चला गया . शिला बाई पास रोहतक में
एक कवि समेलन होने लाग रहा था . रामफल भी थोडी बहुत तुक
बंदी कर लिया करता उसने भी आपना नाम कविया आली लिस्ट मैं
लिख वा दिया . अब दो -चार कविया पाछे आया नंबर रामफल का .
मंच पै जाके सुरु करा आपना शेर …
…. खागड़ ( सांड) पै खागड़ खागड़ पै खागड़ खागड़ पै खागड़
दर्शक बोले — वाह भाई वाह वा भाई वा .
रामफल फेर बोल्या — खागड़ पै खागड़ खागड़ पै खागड़ खागड़ पै खागड़
दर्शक फेर बोले — वा भाई वा वा भाई वा
रामफल इबके तेज़ आवाज़ मैं बोल्या — खागड़ पै खागड़ खागड़ पै खागड़ ………..
इबके दुखी हो कई बोले — यो किसा शेर कह सै भाई तू .
रामफल बोल्या — अरे तुम शेर कै गोली मारों . इतने खागड़ उपरा तली
चडा दिए इनका बैलेंस देखो जै एक भी पडा हो तै

3 thoughts on “रामफल Ki Sayari

Add yours

  1. टीवी पर कुकरी शो आ रहा था। फेमस कुक होस्ट ने सारे इनग्रिडिएंस बताने के बाद वाक्य कुछ यूं समाप्त किया-
    ‘नमक स्वाद अनुसार,
    प्याज औकात अनुसार’

    Read more Hindi Jokes http://www.jagran.com/hindi-jokes.html

Share ur Jokes...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Up ↑

%d bloggers like this: